Home State आरसीबी के लिए ‘करो या मरो’ का मुकाबला आज

आरसीबी के लिए ‘करो या मरो’ का मुकाबला आज

1437
0

कोलकाता। विराट कोहली की टीम अगर यह मैच हारी तो उसका प्लेऑफ में पहुंचना लगभग नामुमकिन हो जाएगा। 8 में से सात मैच हारकर ‘अगर-मगर’ के फेर में फंसी विराट कोहली की रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (RCB) को आईपीएल में बने रहने के लिये शुक्रवार को कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) को हर हालत में हराना होगा। केकेआर लगातार तीन मैच हारकर अंकतालिका में दूसरे से छठे स्थान पर खिसक चुकी है लिहाजा आरसीबी के पास जीतने का सुनहरा मौका है।

रसेल को बाएं कंधे में चोट लगने से अभ्यास मैं हो रही कमी
केकेआर के ट्रंपकार्ड आंद्रे रसेल को भी बाएं कंधे में चोट लगी है जिन्हें अभ्यास के दौरान बाउंसर लग गया था। चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ मैच से पहले भी वह पूरे फिट नहीं थे और टूर्नमेंट में पहली बार नाकाम रहे। इससे केकेआर की उन पर अत्यधिक निर्भरता भी उजागर हो गई। रसेल ने आरसीबी के खिलाफ पिछले मैच में 13 गेंद में नाबाद 48 रन बनाए थे और केकेआर ने 206 रन के लक्ष्य का पीछा करके जीत दर्ज की थी। यह देखना होगा कि रसेल समय पर फिट हो पाते हैं या नहीं। उनकी गैर मौजूदगी केकेआर को बहुत खलेगी जिसकी नजरें जीत की राह पर लौटने पर लगी होंगी।

प्लेऑफ की स्थिति मे केकेआर

प्लेऑफ में पहुंचने के लिए केकेआर को बाकी छह में से कम से कम चार मैच जीतने होंगे, जिनमें से तीन उसे ईडन गार्डंस पर खेलने हैं। आरसीबी के स्टार बल्लेबाज विराट कोहली और एबी डि विलियर्स ने अच्छा प्रदर्शन किया है, लेकिन टीम एक ईकाई के रूप में अच्छा नहीं खेल सकी है।

केकेआर के कप्तान दिनेश कार्तिक पर नज़र
इस मैच में सभी की नजरें केकेआर के कप्तान दिनेश कार्तिक पर लगी होंगी जिन्हें युवा ऋषभ पंत पर तरजीह देकर विश्व कप टीम में शामिल किया गया। कार्तिक इस सत्र में 18।50 की औसत से रन बनाते हुए महज एक अर्धशतक लगा सके हैं।

देखना है अब किसकी गेंदबाजी में है दम
आरसीबी को तेज गेंदबाजों ने निराश किया है। युवा नवदीप सैनी ने प्रभावी प्रदर्शन किया, जबकि उमेश यादव फ्लॉप रहे जिन्हें महज दो विकेट मिल सके। नाथन कूल्टर नाइल की चोट की वजह से दक्षिण अफ्रीका के डेल स्टेन टीम में आए हैं, जिससे तेज आक्रमण मजबूत होने की उम्मीद है। केकेआर की तेज गेंदबाजी भी औसत ही रही है, जबकि बल्लेबाजों की ऐशगाह ईडन की पिच पर उसके स्पिनर भी खास कमाल नहीं कर सके हैं।

Previous articleजन आक्रोश रैली में थप्पड़कांड, हार्दिक पटेल में पड़ा थप्पड़
Next articleचौधरी चरण सिंह ने नहीं किया कभी अपने नैतिक मूल्यों से समझौता