Home International ईस्टर धमाके के बाद श्रीलंकाई नागरिक के मन में एक ही सवाल,...

ईस्टर धमाके के बाद श्रीलंकाई नागरिक के मन में एक ही सवाल, ऐसा हमारे साथ ही क्यों?

321
0


अंतर्राष्ट्रीय डेस्क। ईस्टर हमले के बाद श्रीलंका में जनजीवन अब सामान्य गति से आगे बढ़ रहा है। लोगों को ऐसा लग रहा है कि शायद जीवन के सबसे बुरे दौर को पीछे छोड़कर वह आगे निकल चुके हैं। जब लिट्टे का खात्मा श्रीलंका में हुआ था तब भी वहां के निवासियों को लगा था कि दशकों के गृहयुद्ध जैसी हिंसक परिस्थितियां अब खत्म हो गई हैं। हालांकि, ईस्टर हमले में 253 लोगों की मौत और सैंकड़ों लोगों के घायल होने की घटना ने लोगों को सकते में डाल दिया। इस हिंसक आतंकी वारदात के बाद हर श्रीलंकाई नागरिक के मन में एक ही सवाल है कि हमारा देश श्रीलंका ही क्यों?

जिसका जवाब सरकार, सुरक्षा एजेंसी और सरकारी संगठनों से लेकर आम आदमी तक पूछ रहे हैं। हालांकि, इस भयानक घटना से उबरकर इस द्वीप देश के लोग फिर से जिंदगी को संभालने की कोशिश में जुट गए हैं। हालांकि, इस वक्त ज्यादातर अंगुली इंटेलिजेंस विभाग की असफलता की ओर ही उठ रही है। साथ ही इंटेलिजेंस सूचना के बाद भी राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने समय पर ऐक्शन नहीं लिया, इसको लेकर भी सवाल उठ रहे हैं।

श्रीलंका आर्मी के पूर्व कमांडर आरएम दयान रत्नायक का कहना है, ‘घटना के इस पक्ष (जानकारी के बाद भी कार्रवाई नहीं हुई) ने लोगों के विश्वास को बुरी तरह से झिंझोरकर रख दिया है। इस अविश्वास को और बढ़ाने का काम प्रेजिडेंट और प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे के बीच चल रही राजनीतिक प्रतिस्पर्धा ने बढ़ाया है।’ हमले से 2 सप्ताह पहले ही भारतीय इंटेलिजेंस एजेंसी ने श्रीलंकाई सरकार को चेतावनी जारी की थी।

तमिलनाडु के 9 मुस्लिम युवाओं से हाल ही में श्रीलंका घटना को लेकर संदिग्ध गतिविधियों के अंदेशा पर हिरासत में लेकर पूछताछ हुई है। इन युवकों के श्रीलंका के आतंकी संगठन तैहीद जमात के आतंकी और धमाकों के मास्टरमाइंड जाहरान हाशिम से संपर्क होने के शक में पूछताछ की गई है। अभी तक मिली सूचना के अनुसार, हाशि तमिलनाडु और केरल के कई युवाओं के साथ टेलिग्राम के जरिए संपर्क में था। आतंकी संगठन आईएसआईएस के मीडिया विंग अल फुरकान ने भी दावा किया है कि फेसबुक के जरिए भारतीय युवा संपर्क में थे।

Previous articleहिमाचल में मौसम विभाग ने जारी की ‘येलो वार्निंग’
Next articleबोइंग ने अपाचे हेलिकॉप्टर की पहली खेप वायुसेना को सौंपी, इसी साल जुलाई में आएगी भारत