Home National कांग्रेस में राम राज्य लाएंगी प्रियंका!

कांग्रेस में राम राज्य लाएंगी प्रियंका!

345
0

नई दिल्ली। एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि प्रियंका गांधी कांग्रेस पार्टी में राम राज्य लाएंगी, ऐसी उम्मीद है।
देश की राजनीति के इतिहास में पहली बार किसी प्रधानमंत्री ने खुद स्वीकार किया था कि केंद्र से अगर एक रूपए भेजा जाता है तो लोगों को सिर्फ 15 पैसे ही पहुंचता है। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के इस बयान के बाद एक बार फिर से पार्टी के वरिष्ठ नेता ने इस बात को स्वीकार किया है कि पार्टी के भीतर दलाली है।

लेकिन प्रियंका गांधी इस दलाली को खत्म कर सकती हैं। राजीव गांधी की बेटी प्रियंका गांधी ने आधिकारिक तौर पर राजनीतिक में एंट्री कर दी है और पार्टी के नेता को उम्मीद है कि वह दलाली को खत्म कर सकती हैं।

ष्ठ नेता ने इस बात को स्वीकार किया है कि पार्टी के भीतर दलाली है। लेकिन प्रियंका गांधी इस दलाली को खत्म कर सकती हैं। राजीव गांधी की बेटी प्रियंका गांधी ने आधिकारिक तौर पर राजनीतिक में एंट्री कर दी है और पार्टी के नेता को उम्मीद है कि वह दलाली को खत्म कर सकती हैं।

खत्म कर सकती हैं दलाली उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य रमेश मिश्रा ने कहा कि प्रियंका दलाली को खत्म कर सकती हैं, दलाली की वजह से पार्टी प्रदेश में सिमट गई है।
प्रियंका गांधी की एंट्री के बाद कांग्रेस में दलाली का सिस्टम खत्म हो सकता है जोकि हर जिले में चलता है। सीटों के बंटवारे में चलने वाली दलाली खत्म हो सकती है।

सीटों के बंटवारे में शामिल वरिष्ठ नेता दूसरी लाइन के नेताओं को आगे नहीं बढ़ने देते हैं। लेकिन प्रियंका गांधी लोगों से सीधे मुलाकात करेंगी और सही नेताओं को आगे आने का मौका मिलेगा।

मायावती का गढ़ रमेश मिश्रा अंबेडकर नगर के इल्तिफाजगंज से आते हैं, यह लखनऊ से तकरीबन 200 किलोमीटर दूर है और इसे दलित प्रभावी क्षेत्र के तौर पर जाना जा है।
दलाली को लेकर मिश्रा का डर इसलिए भी जायज है क्योंकि बसपा सुप्रीमो मायावती भी इसी संसदीय क्षेत्र से आती हैं और वह चार बार यहां से चुनी जा चुकी हैं, वह यहां काफी लोकप्रिय हैं। इसी के चलते सपा-बसपा के बीच गठबंधन हुआ है और दोनों ही दल मिलकर आगामी लोकसभा चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं।

Previous articleबर्थ-डे स्पेशल: आशिकी से रातोंरात सुपर स्टार बन गए थे बॉलीवुड के म्युजिकल ब्वॉय
Next articleप्राथमिक शिक्षा में विज्ञान शिक्षण की चुनौती भरी राह