Home National सर्वदलीय बैठक से कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों का किनारा

सर्वदलीय बैठक से कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों का किनारा

754
0

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा एक देश, एक चुनाव पर चर्चा के लिए बुलाई गई सर्वदलीय बैठक से कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों ने किनारा कर लिया है। हालांकि वाम दल और एनसीपी इसमें हिस्सा ले रही है। कांग्रेस ने बैठक में शामिल होने से साफ इनकार कर दिया वहीं, बीएसपी अध्यक्ष मायावती, टीएमसी अध्यक्ष ममता बनर्जी और आप संयोजक अरविंद केजरीवाल हिस्सा नहीं लेंगे।

चंद्रबाबू नायडू का बैठक में हिस्सा लेने इनकार
सूत्रों के अनुसार तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव और द्रमुक अध्यक्ष एम के स्टालिन भी बैठक में शामिल नहीं होंगे। एनसीपी चीफ अध्यक्ष शरद पवार के इस बैठक में भाग लेने की खबरें हैं। टीडीपी चीफ चंद्रबाबू नायडू ने इस बैठक में हिस्सा लेने से इनकार कर दिया था।


ईवीएम के मुद्दे पर होती यह बैठक, तो जरूर लेती भाग – मायावती
मायावती ने ट्वीट कर कहा कि अगर ईवीएम के मुद्दे पर सर्वदलीय बैठक होती तो वह इसमें जरूर शामिल होतीं। उधर, आप ने पार्टी के नेता राघव चड्ढा को पार्टी के प्रतिनिधि के रूप में बैठक में भेजने का फैसला किया है। बैठक में टीआरएस की तरफ से चंद्रशेखर राव के पुत्र और पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष के टी रामाराव हिस्सा लेंगे। इसके अलावा वाम दलों की ओर से येचुरी के अलावा सीपीआई के राज्यसभा सदस्य डी राजा भी बैठक में शामिल होंगे।


‘एक देश एक चुनाव’ विचार के विरोध में – सपा
उल्लेखनीय है कि मोदी ने लोकसभा और सभी विधानसभाओं के चुनाव एक साथ कराने तथा महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के आयोजन सहित अन्य मुद्दों पर सर्वदलीय बैठक बुलाई थी। इस बीच समाजवादी पार्टी के सूत्रों ने बताया कि पार्टी ‘एक देश एक चुनाव’ विचार के विरोध में है और पार्टी का कोई प्रतिनिधि इस बारे में होने वाली में शिरकत नहीं करेगा।

इस बैठक में कांग्रेस नहीं होगी शामिल – गौरव गोगोई
कांग्रेस नेता गौरव गोगोई ने बुधवार को कहा कि उनकी पार्टी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा ‘एक राष्ट्र, एक चुनाव’ प्रस्ताव पर चर्चा के लिए बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में शामिल नहीं होगी। सांसद गोगोई ने संसद में मीडिया को बताया, ‘जहां तक मुझे पता है, हमारी पार्टी बैठक में भाग नहीं ले रही है।’

रविवार को मोदी और संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने 19 जून को संसद में सभी राजनीतिक दलों के अध्यक्षों और 20 जून को दोनों सदनों के सदस्यों को सरकार के साथ बातचीत करने और विचारों का आदान-प्रदान करने के लिए आमंत्रित किया था।

कांग्रेस के अलावा, कई अन्य विपक्षी दलों के होने की नहीं संभावना
कांग्रेस के अलावा, कई अन्य विपक्षी दलों के नेताओं के भी मोदी द्वारा बुलाई गई बैठक में शामिल होने की संभावना नहीं है। इनमें डीएमके अध्यक्ष एम.के. स्टालिन, तेलुगू देशम पार्टी के प्रमुख एन। चंद्रबाबू नायडू, और तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख एवं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी शामिल हैं।

Previous articleसेंसेक्स में बढ़त के साथ खुला बाजार
Next articleभारत के मोस्ट वॉन्टेड अपराधी दाऊद इब्राहिम पर बड़ा खुलासा, डरपोक था ‘डॉन’