Home International विश्व के लिए आफत बना इलेक्ट्रॉनिक कचरा, स्वास्थ्य व पर्यावरण को खतरा

विश्व के लिए आफत बना इलेक्ट्रॉनिक कचरा, स्वास्थ्य व पर्यावरण को खतरा

109
0

गैजेट डेस्क। वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (डब्ल्यूईएफ) ने कहा है कि सन 2050 तक लेड, पारा, कैडमियम जैसी हानिकारक धातुओं से युक्त ई-वेस्ट 12 करोड़ टन सालाना हो जाएगा जो कि स्वास्थ्य और पर्यावरण के लिए काफी घातक होगा। संयुक्त राष्ट्र के ई-वेस्ट कोलिशन के साथ मिलकर तैयार की गई रिपोर्ट के हवाले से डब्ल्यूईएफ ने कहा है कि विश्व में प्रति वर्ष 4.47 करोड़ टन इलेक्ट्रॉनिक कचरा निकलता है, यह 1.25 लाख विमानों के कुल वजन से भी ज्यादा है।

  • 2020 तक 50 अरब डिवाइस नेटवर्क से जुड़े होंगे
  • खराब डिवाइस से पैदा होगा ई-वेस्ट का बड़ा जखीरा

रिपोर्ट में कहा गया है कि 2017 में 1.46 अरब स्मार्टफोन बेचे गए। 2020 तक 2.87 अरब लोगों के पास स्मार्टफोन होगा। 2020 तक 50 अरब डिवाइस नेटवर्क से जुड़े होंगे। इनमें घरेलू उपकरणों से लेकर सेंसर तक शामिल हैं। ये डिवाइस भी खराब होंगे और ई-वेस्ट का बड़ा जखीरा सामने आ जाएगा।

Facebook Comments