Home Lifestyle क्या आप जानते हैं घर पर ऐसे भी जुड़ सकती है टूटी...

क्या आप जानते हैं घर पर ऐसे भी जुड़ सकती है टूटी हड्डी…

40
0

अब बुढ़ापे में ही हड्डियां कमजोर होंगी। अगर आप ऐसा सोचते हैं तो गलत है। अब किसी भी उम्र में हड्डी टूृट सकती है। इसलिए बेहतर होगा कुछ घरेलू नुस्खे भी जान लें… तो आज हम आपको बताते हैं कि हड्ंडी को किस तरह से घर पर जोड़ा जा सकता है।
हड्डी टूटने पर हम जल्दी से डॉक्टर से जाकर मिलते हैं। प्लास्टर लगाकर हड्डी जुड़ने का इंतजार करते हैं। क्या होता है जब हम कहीं ऐसी जगह हो जहां डॉक्टर तक पहुंचना थोड़ा आसान नहीं है लेकिन हड्डी टूटनें की वजह से आपको कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता हैं। अगर आपके साथ कोई दुर्घटना हुई है तो इन तरीकों से आप टूटी हुई हड्डी का ऐसे ख्याल रख सकते हैं।देसी घी
2 चम्मच देसी घी, 1 चम्मच गुड़ और 1 चम्मच हल्दी को मिलाकर 1 कप पानी में उबाल लें। इसे ठंडा करने के बाद पी लें। दिन में 2 बार इसे पीने से आपकी टूटी हुई हड्डी जल्दी जुड़ जाएगी।

प्याज

1 पीसे हुई प्याज में 1 चम्मच हल्दी मिलाकर साफ कपड़े में बांध लें। इसके बाद कपड़े को तिल के तेल में गर्म करके टूटी हुई हड्डी पर सिकांई करें। दिन में2 बार इसी तरह हड्डी की सिकांई करने से आपको दर्द से भी आराम मिलेगा और हड्डी भी जुड़ जाएगी।

उड़द दाल

उड़द दाल की दाल को धूप में सूखा कर पीसकर पेस्ट बना लें। इससे टूटी हुई हड्डी पर लगाकर पट्टी बांध लें। इस उपचार को करने से आपकी टूटी हड्डी जल्दी जुड़ जाएगी।

काली मिर्च

पिसी काली मिर्च और काग गंगा बूटी का रस मिक्स करके दिन में 3-4 बार पीएं। इसका सेवन आपकी टूटी हड्डी को कुछ दिनों में ही जोड़ देगा।

मुलेठी

मुलेठी, मंजीठ और खटाई का लेप बना लें। इसके बाद इसे टूटी हुई हड्डी पर लगाकर पट्टी बांध लें। इससे आपकी हड्डी जल्दी जुड़ जाएगी।

भेड़ का दूध

यह सबसे कारगर उपाय माना जाता है। कहीं से भेड़ का दूध लेकर इसकी मालिश उस स्थान पर करें जहां हड्डी टूटी है। शीघ्र फायदा होगा लेकिन ध्यान रखें यह काफी बदबूदार इलाज है।

हड़जोड़ पौधे हड़जोड़ पौधे की पत्तियों को सूखाकर पीस लें। पत्तियों के बराबर उड़द की दाल को मिलाकर पीस लें। अब इसका गीला पेस्ट बना लें। अब बांस की लकड़ी की मदद से हड्डी को सीधी कर लें। इसके बाद कॉटन के कपड़े पर ये लेप लगाकर कपड़ा बांध दें।

ऊपर से बांस की लकड़ी को कुशा के सहारे बांध दें। कुशा देसी घास होती है। हर तीसरे दिन ये लेप लगाएं। हड़जोड़ के अंदर नेचुरल कैल्शियम पाया जाता है जो हड्डियों को जोड़ने में मदद करता है। इसमें एंटीइंफ्लैमटरी गुण भी होते हैं जो हाथ- पैर की सूजन और दर्द को कम करते हैं।

Facebook Comments