Home State अयोध्या मंदिर के पुजारी ने सोशल मीडिया पर किया लाइव सुसाइड, पुलिस...

अयोध्या मंदिर के पुजारी ने सोशल मीडिया पर किया लाइव सुसाइड, पुलिस पर प्रताड़ना का आरोप, जांच के आदेश

146
0

अयोध्या। भगवान श्रीराम की नगरी अयोध्या में एक पुजारी ने पुलिस की प्रताड़ना से परेशान होकर अपनी जीवनलीला समाप्त कर ली। पूरे मामले में एक चौंकाने वाला वीडियो भी सामने आया है जो मृतक पुजारी ने अपनी मृत्यु से पहले सोशल मीडिया पर भी शेयर किया था। इस वीडियो में मृतक महंत ने पुलिस पर कई गंभीर आरोप लगाए है।

जानकारी के अनुसार अयोध्या के कोतवाली थाना इलाके में नरसिंह मंदिर के पुजारी ने सोमवार को फांसी लगाकर कथित रूप से आत्महत्या कर ली। युवा साधु ने आत्महत्या करने से पहले एक वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर साझा किया, जिसमें उसने पुलिस पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। घटना के बाद पुलिस विभाग के अधिकारी और कर्मचारी का नाम भी सामने आया है। वहीं घटना के बाद पुलिस ने मृतक पुजारी के शव को कब्जे में लिया है। शव का पोस्टमॉर्टम करवाया जा रहा है।

पुलिस ने झुठलाए आरोप
हालांकि पुलिस ने साधु को नशेड़ी और आरोपों को झूठा बताते हुए दावा किया कि ड्रग्स के नशे में पुजारी आत्महत्या की। पुलिस सूत्रों के अनुसार अयोध्या में नरसिम्हा मंदिर के पुजारी की पहचान राम शंकर दास (28) के तौर पर की गयी है। सूत्रों ने बताया कि पुलिस ने कुछ दिन पहले उसी मंदिर के एक बुजुर्ग महंत रामशरण दास के गायब होने के मामले में दास के खिलाफ मामला दर्ज किया था।

उन्होंने बताया कि सोमवार दोपहर राम शंकर दास का शव मंदिर में उनके कमरे में फंदे से लटका मिला। अयोध्या कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक मनोज शर्मा ने कहा कि पुजारी राम शंकर दास नशे के आदी थे, ड्रग्स के नशे में उन्होंने आत्महत्या कर ली। एसएचओ ने दावा किया कि पुजारी ने पुलिस पर जो आरोप लगाए हैं, वे पूरी तरह से झूठे हैं। उन्होंने बताया कि पुलिस मामले की जांच कर रही है।

लापता है महंत
बता दें कि नरसिंह मंदिर को लेकर विवाद काफी गहराता जा रहा है। मंदिर के महंत कुछ महीनों पहले अचानक गायब हो गए थे जिसके बाद उसी मंदिर के पुजारी ने आत्महत्या कर ली है। ऐसे में अब एक ही मंदिर के पुजारियों के साथ ऐसी अनहोनी घटनाएं होना कई सवालों को खड़ा कर रहा है। पुलिस की कार्रवाई पर भी कई सवाल खड़े हो रहे है। पुलिस की तैनाती इस मंदिर के पास ही है मगर फिर भी यहां इस तरह की घटना हुई है।

Previous articleधीरेंद्र शास्त्री ने हिंदूओं की भावनाओं को ठेस पहुंचाया, शिकायत दायर
Next articleहाई कोर्ट ने कृष्ण जन्मभूमि मामला सुनवाई के लिए वापस मथुरा भेजा